Monthly Archives: December 2012

नए साल में नया करो

मत बदलो कैलेण्डरयादें रहने दो ताज़ाबीते ज़ख्मों की कुछ करना ही है तोडालो बीजसीचों उसे अपने विश्वास सेकरो हरा उसे अपनी आस्था सेदेखो उसे सिक्त होकर बढ़तेइस नमी और ऊष्मा से हमारा चरित्र कैलेण्डर नहींजिसे हम रातों-रात बदल लेंयह तो … Continue reading

Posted in Culture | Tagged | Leave a comment

Ishopnishad (ईशोपनिषद)

ओम ईश वास्यम इदं सर्वं यत किम च जगत्यां जगततेन त्यक्तेन भुन्जिथा मा गृधः कस्य स्विद धनं |१| इस गतिशील जगत में जो कुछ भी सचल है, वह ईश्वर के वस्त्रों से ढका हुआ है. यानी उन सबपर ईश्वर का … Continue reading

Posted in Culture | Tagged , , | 2 Comments